MOTIVATIONAL

HUM KISI SE KM NAHI

moral stories for kids

This is a very short kids story for you and we wish you will like this.

ये हे कहानी एक छोटी सी मछली की।


छोटी सी मछली जो रहती परेशान। कहती थी भगवान् से, क्यू नहीं बनाया मुझको भी ओर मछलियों जैसा विशाल।

अपने छोटे होने से वो रहती हमेशा परेशान। सारा समय वो करती अपनी तुलना औरो से और फिर हो जाती परेशान। कोई उससे अगर पूछे, क्या है छोटी मछली होने का नुकसान ? बताती वो इतना कुछ सुनने वाला हो जाता परेशान।
एक समय आया जिसने बदल दिया मछली का व्यवार, जब मछवारे ने पकड़ लिया सब मछलियों को जाल में एक सामान।
छोटी सी वो मछली, जाल के छेदों में निकल गयी और अपने जीवन में एक नई उमंग से भर गयी।
फिर बोली, धन्यवाद भगवान् आज में छोटी न होती, तोह बन जाती किसी का पकवान।

Moral of the Story:- इस कहानी से हमे ये सिख मिलती है की हमे जैसे भी भगवान् ने बनाया है, अच्छा ही बनाया है। इसीलिए हमे दूसरे से अपनी तुलना नहीं करनी और हमेशा भगवान् का शुक्रिया करना है। हर किसी के अंदर अपनी अलग खूबियां होती है इसीलिए परेशान न हो और अपनी ज़िन्दगी खुल के जियो।

Spread the love

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *